Tue. Oct 20th, 2020

ऐ सुबह तेरे आने तक तेरा इन्तजार करता हूँ  | पंडित अशोक तिवारी

Aye Subh!! Tere Ane Tak Tera Intezar Krta Hu.

Aye Subh!! Tere Ane Tak Tera Intezar Krta Hu.

Planettnews.com

ऐ सुबह तेरे आने तक तेरा इन्तजार करता हूँ 

 

ऐ सुबह तेरे आने तक तेरा इन्तजार करता हूँ
अभी अंधेरा है अंधेरे से बात करता हूँ।
मुझे पता है तू डराता बहुत हैं ।
और सपने भी दिखाता बहुत हैं।
पर यकीन मान मै तुझ से डरता नहीं हूँ। 
और तेरे सपने पर मै यकीन करता नहीं हूँ।
डरना और सपनो पर यकीन करना आदत मे नहीं मेरे।
हम ओ इंसान है जो निडर हो कर हकीकत में जीया करते हैं।
और हर पल तुझ से लडते है।
माना के इस संसार में कुछ लोग तुझ से डरते है और तेरे सपनो पर यकीन करते हैं
मै तो सुबह का इंतजार करूंगा और तुझ से हर पल लडूगा।
साथ दुनिया से भी कहूंगा की तुझ से डरे नहीं और तेरे सपने पर यकीन करे नहीं।
सुबह होगी सुबह का इंतजार कर।
जब तक अंधेरा है जी भर कर लड़।

:-    उक्त पंक्तिया अशोक तिवारी द्वारा रचित

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *